Bluepadएक झूठी पहचान
Bluepad

एक झूठी पहचान

Apoorva singh
Apoorva singh
26th Jun, 2020

Share

रिया कहाँ हो तुम बेटा देखो तुमसे मिलने कौन आया है ! तुम्हारी सबसे प्यारी सखी और तुम्हारी कॉलेज फ्रेंड सपना।रिया की मां ने रिया को आवाज़ देकर कहा। रिया - ( खुशी से)सच मां सपना आई है ओर अपने रूम से निकल कर बाहर ड्राइंग रूम में आ जाती है। रिया - ओह माय गॉड सपना तुम आखिर तुम मिलने आ ही गयी।और हाई कहते हुए गले मिलती है। सपना - हां आ ही गयी काफी वक्त हो गया था हमे मिले हुए।और तुम तो अपनी जॉब में इतना बिजी हो तो तुम्हे टाइम नही मिलता की एक छोटी सी मुलाकात ही हो जाये।तो मैंने सोचा क्यों न समय निकाल कर मैं ही तुझसे मिल लू यहां आकर। रिया - ये  बहुत अच्छा किया तुमने।अच्छा चल रूम में चल कर बात करते हैं। मां दो कप चाय हमारे रूम में भिजवा देना प्लीज्। सपना और रिया  दोनो कमरे में चल कर खूब सारी बाते करती हैं। रिया - सपना तुम्हारी लव लाइफ में क्या चल रहा है।तुम और राज कब शादी कर रहे हो अब तो काफी समय हो गया है तुम्हरे रिलेशनशिप को। सपना - रिया अब तुम्हे क्या बताऊ इस बारे में छोड़ ये सब कुछ और बात करते हैं और उदास होकर कमरे की खिड़की पर आकर खड़ी हो जाती है।
रिया - बात क्या है और राज का नाम सुनकर तुम एकदम से इतनी परेशान क्यों हो गयी। इतना सुन कर सपना की आंखों से आंसू आ जाते हैं ओर वो रिया को गले लग जाती है। रिया - सपना के सिर पर हाथ फेर कर उसे सांत्वना देती है।और उसे कुर्सी पर बैठा कर खुद जमीन पर घुटनो के बल बैठ जाती है और उसके हाथों को अपने हाथो में लेकर पूछती है अब बताओ क्या हुआ।कोई बात है जिसकी वजह से तुम इतना परेशान हो। सपना - रिया।इतने सालों का मेरा जो रिश्ता था राज के साथ सब झूठ था।वो तो राज था ही नही वो तो कोई रघवीर था जो इतने वर्षों तक एक झूठी पहचान के साथ मुझसे जुड़ा हुआ था।वो तो शुक्र है मेरी एक फ्रेंड  का जिसने उसकी सच्चाई से मुझे अवगत कराया। रिया - मै ठीक से समझ नही पा रही तू पूरी बात बता। सपना - इतना तो तुझे पता है कि हम मेरा मतलब मै और राज फेसबुक के जरिये एक दूसरे से कांटेक्ट में आये थे।हम धीरे धीरे बातें करने लगे और समय के साथ एक दुसरे को अच्छे से जानने लगे।ऑर एक साल बाद हम दोनो ने एक दूसरे को प्रपोज़ किया और हमारे रिलेशनशिप की शुरुआत हो गयी। लेकिन कुछ समय बाद ही उसकी  मांगे शुरू हो गयी जैसे कि आज फ़ोटो सेंड करो।आज वीडियो कॉल करना है।मैंने स्पष्ट मना कर दिया बोला की फ़ोटो वगैरह नही सेंड करूँगी मिलना ह तो सामने से मिलो लेकिन फ़ोटो और वीडियो कॉल नही। रिया - हां ये तो तुमने मुझे बताया था कि अगर कभी मिलने जाना भी पड़ा तुम्हे तो मुझे साथ लेकर जाओगी। सपना - हां।लेकिन एक बार मैंने उसे एक कॉफि शॉप पर लड़की के साथ देखा जो शादी शुदा थी।तब मैंने सोचा कोई रिश्ते में ही होगी भाभी या बहन इसीलिए उससे इस बारे में कोई सवाल नही किया।लेकिन मेरे एक दोस्त से इस बारे में बात की तो उसने उस लड़के के बारे में पता किया तो पता चला उसकी एक और फेसबुक आईडी थी किसी और नाम से मेरी फ्रेंड ने उससे कॉमन बात की और उसे वौइस् मैसेज सेंड करने को कहा।और हम दोनों ने जब दोनो वौइस् मैसेज को एक साथ सुना तो एक ही व्यक्ति की आवाज़ निकली। और सारी सच्चाई मेरे सामने आ गयी।बाकी जब थोड़ा और पता लगाया तो उसकी सारी हक़ीक़त सामने आ गयी।राज उर्फ रघबीर पहले से ही शादीशुदा था और वो अक्सर एक नई और झूठी पहचान के साथ एकाउंट बनाता और लड़कियों के साथ जान पहचान बढ़ा उनकी मासूमियत का फायदा उठा उन्हें ब्लैकमेल करता था।तो हम दोनों ने उसके खिलाफ सायबर क्राइम के लिए शिकायत कर उसे जेल की हवा खिलवा दी। रिया - ओह गॉड तेरे साथ इतना सब हो गया यार ये तो शुक्र है तेरे उस दोस्त का जिसने तुझे समय रहते इन सब मे पड़ने से बचा लिया।और ये तो अच्छी बात है न तो इतना दुखी क्यों हो रही है।वो कहते हैं न जो होता है अच्छे के लिए ही होता है। सपना - हां रिया सच कहा तूने  उस एक झुठी पहचान का शिकार होने से मैं और शायद मेरे जैसी कई लड़कियां होंगी जो बच गयी।


16 

Share


Apoorva singh
Written by
Apoorva singh

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad