Bluepadजीवन में उतारें योग
Bluepad

जीवन में उतारें योग

 मंजू ओमर
मंजू ओमर
21st Jun, 2020

Share

कल विश्व योग दिवस है लेकिन अब क्या स्थिति है कितने लोग योग की बात करते हैं और कितने लोग योग करते हैं । सिर्फ एक दिन योग योग चिल्लाने से कुछ नहीं होगा ।इसे अपने जीवन में उतारना होगा । योग के कयी लाभ है । उनमें कुछ के बारे में बात करते हैं यह तो आपको पता ही होगा कि व्यायाम करने से न केवल शरीर फिट रहता है बल्कि मानसिक रूप से भी बहुत लाभ मिलता है । योग में व्यायाम भी शामिल होता है । व्यायाम ब्रेस्ट कैंसर से भी बचाता है । शारीरिक रूप से सक्रिय रहने पर न केवल किशोरियां बल्कि बड़ी उम्र की महिलाओं को भी ब्रेस्ट कैंसर का खतरा नहीं रहता । बताया जाता है कि पूरी दुनिया में महिलाओं को सबसे ज्यादा अपनी चपेट में लेने वाली बिमारी ब्रेस्ट कैंसर ही है । वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि कम उम्र की लड़कियों को व्यायाम करने की आदत डाल दी जाये तो आगे चल कर उनको इस बिमारी से बचाया जा सकता है । नियमित व्यायाम करने से स्त्रियों के शरीर में एस्ट्रोजन नामक हार्मोन्स का स्राव कम होता है। शारीरिक श्रम न करने पर इस हार्मोन्स का स्राव बढ़ जाता है । जिससे ब्रेस्ट कैंसर को बढ़ावा मिलता है । स्वस्थ रहने वाले बिमारियों के इलाज में योग प्राणायाम की मान्यता देश विदेश में बढ़ी है ।, लेकिन योगाभ्यास को अपनाने वाले इस बात को लेकर दुविधा में रहते हैं कि उन्हें कितने आसन करने चाहिए। योगाभ्यास करने वालों के मन में कुछ सवाल आते हैं जिनके बारे में सही तरीके से जान कर यदि वे योग करेंगे तो उन्हें निश्चित तौर पर फायदा होगा । शरीर की क्षमता देख कर ही योग करें । आधे घंटे का अभ्यास भी आपको स्वस्थ रखेगा ।
आपको जानकर आश्चर्य होगा कि योग गर्मी से भी राहत देता है । सामान्य व्यक्तियों के लिए ८,१० आसन पर्याप्त है । इसी तरह प्राणायाम के भी २,३ तरह के आसन पर्याप्त है । जैसे अनुलोम-विलोम, कपाल भाती,उजाजाही , भ्रामरी ध्यान योग निद्रा में से किसी एक का अभ्यास जरूर करें।जिन लोगों की तबियत ऊंचाई वाले स्थानों पर आक्सीजन की कमी से या अधिक तापमान वाले गर्म स्थानों पर ख़राब हो जाती है । उन्हें भी योगाभ्यास से फायदा होता है । इससे शारीरिक क्षमता बढ़ती है । योग शरीर से विषैले तत्व बाहर निकालने में भी मदद करती है । आजकल तनाव से बहुत बिमारियां हों रही है। एंजायटी और डिप्रेशन और डिप्रेशन को दूर करने में कारगर है । इसी तरह हदय से जुड़े रोगो में हाइपर टेंशन शुगर जैसी समस्याओं में प्राणायाम ध्यान योग निद्रा जैसी तकनीक लाभ दायक है ।आप कौन-कौन कौन-कौन से आसन और प्राणायाम कर सकते हैं इसके लिए अच्छे योग विशेषज्ञ से अपनी समस्या और शारीरिक क्षमता बता कर सलाह लें। और सिखने के बाद ही योग करें। मैंने अभी कहीं पढ़ा था कि तमिलनाडु की ९८, साल की नानालमम अपने जीवन में कभी भी अस्पताल नहीं गई और नहीं कभी बिमार हुई । उनकी सेहत का राज बचपन से योग करना है। यह जब छोटी थी तभी पिता ने उन्हें योग का महत्व समक्षा दिया था । तो आइए आप और हम भी योग करें और स्वस्थ रहें ।
मंजू ओमर
क्षांसी


1 

Share


 मंजू ओमर
Written by
मंजू ओमर

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad