Bluepadडिजीटल युग में माता-पिता बने एक्टिव
Bluepad

डिजीटल युग में माता-पिता बने एक्टिव

M
Minu
25th Apr, 2020

Share



आज डिजीटल युग आ गया है। सभी कार्य डिजीटली होते हैं। आज के बच्चे हो या उनके माता-पिता सभी इंटरनेट और टेक्नोलाॅजी के माध्यम से समय के साथ चलना चाहते हैं। यह आज आवश्यक भी और आवश्यकता भी। आज की भागती दौड़ती जिंदगी में जब सभी काम घर बैठे आसानी से हो जाए तो लोग उस विकल्प को ना अपनाए तो यह समय से पिछड़ने वाली बात होगी। बहुत से लोग इस डिजिटल दुनिया के पीछे नाकारात्मकता को भी देखते हैं। यह सत्य भी है। किसी भी चीज की अधिकता हमेशा गलत होती है। हालांकि आज हम चर्चा करेंगे वैसे माता-पिता की जिनके बच्चे बाहर जाते हैं उनके लिए डिजीटल जानकारी होना क्यों जरूरी है।
आज टेक्नोलाॅजी बढ़ती जा रही है। दूरियां कम हो गई है। आप चाहे तो सभी काम घर बैठे हो सकती है। घर का राशन मंगाना हो या दवाईयां, डाॅक्टरों से अप्वाइंटमेंट लेनी हो या पढ़ाई के लिए शिक्षकों से संपर्क सभी आसान हो गई है। आजकल के माता पिता भी इन टेक्नोलाॅजियों को जानने के लिए उत्सुक रह रहे हैं। इस राह में उम्र बाधक नहीं बन रही।
जिन माता-पिता के बच्चे नौकरी या पढ़ाई के लिए बाहर शहरों या विदेशों में रहते हैं उन्हें हमेशा अपने बच्चों की चिंता बनी रहती है। यह चिंता सिर्फ बच्चों के लिए नहीं बल्कि स्वयं के लिए भी होती है। बच्चों को जाने के बाद उन्हें कई कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। वहीं बच्चों को भी अपने परिवारजनों के लिए चिंता होती है। इन चिंताओं को आज डिजीटल मीडिया ने कम कर दिया है। आज बच्चे और माता-पिता दूर रहकर भी एक दूसरे के पास रहते हैं।
माता-पिता दूर रहकर भी बच्चाों को हरेक गतिविधियों पर नजर रख सकते हैं। उन्हें ये जानकारियां भी होती रहती है कि उनके बच्चे किसी गलत रास्ते की ओर तो नहीं जा रहे हैं। इसका कारण है कि आज कई ऐसे ऐप आ गए हैं जिससे आप बच्चों को ट्रैक कर सकते हैं। साथ हीं उनसे वीडियो कांलिग के जरिए बात भी कर सकते हैं। बच्चों को अगर पैसे की आवश्यकता होती है तो आप बिना समय गंवाएं उन तक पैसे भेज सकते हैं।
इतना ही नहीं वे अपने जीवन को भी बिना परेशानी के सकते हैं। अगर वे कहीं बाहर जाने लायक नहीं रहते तो घर से ही अपनी जरूरत को पूरा कर सकते हैं। बहुत से ऐप ऐसे हैं जिसके माध्यम से आप घर बैठे अपने जरूरत के सामान मंगवा सकते हैं। इतना ही नहीं दवा हो या कोई अन्य मेडिकल एमरजेंसी उसका लाभ भी उठाया जा सकता है। साथ हीं घर बैठे विदेशों के डाॅक्टरों से भी विचार-विमार्श किया जा सकता है। आज कल डिजीटल जानकारी होने पर यातायात में भी सहूलियत होती है। वहीं हम अपनी जानकारियों में भी वृद्धि कर सकते हैं।
कहने का तात्पर्य का है कि आजकल डिजीटल जानकारी होना या डिजीटललाईजेशन को स्वीकार्य करना एक सकारात्मक कदम है। अब पहले का वो जमाना नहीं रहा जब बच्चे बाहर हो और माता पिता उनकी सूचना के अभाव में परेशान हो। वे उस चिट्टी के जरिए अपने बच्चों की कुशलता को जानने के लिए महीनों-महीनों बाद तक इतंजार करें। अब समय है कुछ ही सेकंडों में अपनी मन की परेशानियों को दूर करने का। अगर कोई टेक्नोलाॅजी हमारे दूरियों को कम कर रही है तो समय के साथ इसका लाभ लेना जरूरी है। हालांकि यह भी सत्य है कि अधिकता किसी भी चीज की गलत होती है।

11 

Share


M
Written by
Minu

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad