Bluepad | Bluepad
Bluepad
डर
सौ.मेघा नांदखेडकर
सौ.मेघा नांदखेडकर
24th Jan, 2023

Share

एक वक्त था जब अंधेरों से डरते थे तुम
पर अब उजालों बहोत से डरते हैं हम
क्योंकी अंधेरे में छुपा लेते हैं सारे गम
पर उजालों में ऑंसू कैसे छुपाये हम?
डर

0 

Share


सौ.मेघा नांदखेडकर
Written by
सौ.मेघा नांदखेडकर

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad