Bluepad | Bluepad
Bluepad
तुम
psycho writer
psycho writer
18th Jan, 2023

Share

वाकिफ़ था मैं तुम्हारे ⠀
इस बदलते अंदाज़ से,⠀
पर ये बावरा मन ⠀
बहाने ढूंढ़ता था ⠀
इज़हार के,⠀
दिल में एक “काश “ था,⠀
जिसे बयान मैं करना चाहता था,⠀
पर शायद मंज़ूर न था ये, ⠀
कहानी ने कुछ ऐसा रुख लिया,⠀
की पास होकर भी तुम दूर हो गई,⠀
जिस जुबान पे हमेशा तुम्हारा जिक्र था ⠀
आज नम सी वो जुबान हो गई,⠀
और जो लिखे ख़त थे उनकी ⠀
स्याही भी रंग छोड़ गई ...........

170 

Share


psycho writer
Written by
psycho writer

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad