Bluepad | Bluepad
Bluepad
जिम्मेदारी......
nikita paraskar
nikita paraskar
18th Jan, 2023

Share

कभी ना समझा कब बडे हो गये.. ..
असलं जिंदगी से वाकिफ हो गये...
जिम्मेदारी का बोझ कुच एसा आया...
की खुद को आयने मे तराशा ना गया..
कुच बाते बदल गई उम्र के साथ..
पर फासला कुच बाकी था..
शयाद अभी खुद को सवरना था...
वो दीन थे,जब हमारी भी हस्ती थी ...
कब न जाने तुटी वो कस्ती थी..
जिंदा होकार भी जिना भूल गये ..
हम तो खुद मे जिना भूल गये..
ना आयेगा ये वक्त ना ठरेंगी ये राते.....
सुबाह के सवरे मे खो गई वो राते....
कभी ना करणं खुद्द से समझोता..
जीत कर भी हार मे ये दिलं रोता...
अपनी हस्ती को बरकरार युही रखंना..
वरना जबरदस्ती खुद को जिंदा मत रखणं...
जायेंगे जब ये सूनहरे पल बितकर..
आयेंगे याद खुद चलकर....
अपना फासला कभी कमजोर ना हो..
बस कुच असर येसा हो...

178 

Share


nikita paraskar
Written by
nikita paraskar

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad