Bluepad | Bluepad
Bluepad
कलियुग का आविर्भाव
niru krishika
niru krishika
17th Jan, 2023

Share

कलयुग का आविर्भाव
दुख भोगकर प्रतिशोध की घात का हर क्षण जीता है l
लेकिन दुख के कारण से आत्मसात नहीं होता उसकी अवहेलना करता हुआ राक्षसी प्रवृत्ति और उन्माद को दुनिया दारी का ज्ञान और मापदंड स्वीकार कर मचलता जीता है l
प्रतिशोध गलत हो या सही उसकी पूर्ति मार्ग में कई निरपराधों के मान, आदर, सम्मान से खेलता है l
पुन:दुख भोग की सत्ता का फिर से उपार्जन करता जाता है पाप, अधर्म , सही गलत के ज्ञान की अवहेलना करता हुआ l
कलियुगी प्रवृतियों और दुनियादारी के मद में चूर बढ़ता जाता है
लक्ष्य -- ईर्ष्या, द्वेष, प्रतिशोध , अहम भाव की पराकाष्ठा की प्राप्ति l
हथियार --- फरेब, मक्कारी, जालसाजी, अय्यारी, उद्दंडता, सम्मुख मृदुभाषी, पीठ पीछे अपशब्द का अम्बार लगाते /दाग को कालिख बनाते, छल को कंदाराओं में विलीन, जालसाजी को दिखावे की चरमसीमा पार का प्रेम और विनम्रता से परिपूर्ण पुन: पराकट्य/अवतरण l
-- नीरू कृषिका l

245 

Share


niru krishika
Written by
niru krishika

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad