Bluepad | Bluepad
Bluepad
ये हवा......
nilesh jadhav
nilesh jadhav
21st Nov, 2022

Share

निकल पड़े है कुछ लम्हें जीने।
हवाओं से पूछने के कहा है मंजिल हमारी।
किस दिशा से जाये हम।
कही भटके तो राह दिखाना जरूर।
कही रुके तो साथ रुकना ज़रूर।
चाहें मौसम बदल जाये।
चाहें तूफ़ान आए और थम जाये ।
बस तुम पास रहना, ए हवा।
हमारा हौसला बनकर, ए हवा।
निलेश जाधव
चित्रकार

191 

Share


nilesh jadhav
Written by
nilesh jadhav

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad