Bluepad | Bluepad
Bluepad
अंदाज ए शायरी.... 🙏🙏
 Dr Bhawna Nagaria
Dr Bhawna Nagaria
22nd Sep, 2022

Share

वक्त की साजिशों का… ,
अक्सर शिकार हुए हम ,
बिना किसी गुनाह के… ,
गुनहगार हुए हम ||
वक्त की हर खलिश को … ,
हमने समझा सदा गुलाब ,
पर गुल ने दिल को करके घायल ,
पहनाया हमें…. कांटों का ताज… ||
कभी जब वक्त होगा अनुकूल ,
महकेंगें… जीवन बगिया में फूल ,
हमने सदा…बस यही सोचकर… ,
किया वक्त का हर फतवा कबूल ||
चाहत थी…. उसकी वफ़ा का… ,
शुक्राना अदा करें हम ,
बस यही सोच हर इलज़ाम… ,
अपने सिर लिया हमने ||
अपनी चाहत दिखाने का ,
अजब तरीका इजाद किया उसने ,
लेकर अपने आगोश में... ,
फिर तबाह किया उसने ||
दर्द ही मर्ज .. दर्द ही दवा ,
मिली बंदगी की हमें…ये कैसी सजा ,
पर वक्त से हमें… नहीं कोई गिला ,
शायद सच्ची बंदगी का… यही है सिला ||
रुह से रुह का रिश्ता ,
सदा आबाद रहता है ,
मौन रहकर भी उनसे ,
हर पल संवाद होता है ||
क्रमशः.....

183 

Share


 Dr Bhawna Nagaria
Written by
Dr Bhawna Nagaria

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad