Bluepad | Bluepad
Bluepad
मौन
Prince kumar Jha
Prince kumar Jha
20th Sep, 2022

Share

मौन समस्या से बचने का
एक तरकीब हो सकता है
पर उसका निदान नही!
तटस्थ कोई नही
गलत पर जो आज चुप्प है
मौन उसका समर्थन है!
मौन कोई भी नही
गूंगा बाहर कौन है
जो कल बोलते थे
आज किसी कारण बस चुप हैं
जो आज चुप है वो फिर कल
समय जगह और परिस्थिति
देखकर देखना बोलेंगे!
क्या ऐसे हीं होता
समस्या का समाधान है!
जो आज तटस्थ है
इतिहास उसका भी लिखा जाएगा
बात जब निकलेगी तो
बहुत दूर तलक जाएगी
वर्तमान, भूत और भविष्य में
सबकी तटस्थता ऐसी हीं देखी जाएगी!
जो आज हो रहा
न्याय-अन्याय पर मौन है
क्या वह इससे पहले भी रहता मौन था
क्या वह इसके बाद भी ऐसे हीं रहेगा मौन है!
अगर वह सच में मौन है
तो बोलो वो कैसे महान है
किस बात का उसे मिल रहा इतना सम्मान है!
तो फिर क्यों नही मिलता
हर गूंगा बहरा को इतना आवर्ड है!
ये फिर ये कोई सरपरस्ती का इनाम है
जिसका कर्ज चुकाने आज सबके सबके मौन है!
मिलता अगर सच मे सम्मान
प्रतिभाओं को न्याय तटस्थों को
तो फिर ये यूँ इस तरह
माफियाओं के राज नही होता!
जिसके सर् है ताज
वे आज इस तरह से मौन नही होता!
देश से बड़ा किसी को भी
अपना कोई व्यापार नही होता
देश के दुश्मन यार ना होता!
देश की बर्बादी पर चुप रहने वाले
देश के खिलाफ साज़िस रचने वालों
पर मौन रहने वाले यूँ आज इस तरह से
बरसाती मेढ़क बन ना बिलबिलाते
न्याय के साथ नही तो अन्याय के साथ न हीं होते!
जो आज सच के साथ है
आशा नही की वो भी
कल भी इसके साथ रहेगा!
समय, जगह और परिस्थिति
नाम, जाती और धर्म, विचारधारा
देखकर न्याय अन्याय तय करने वाले
से क्या उम्मीद है!
जो बोल रहा आज
उसका बोलना तो सपष्ट है!
पर जो मौन है
उसका मौन नही कोई तटस्थ है
ना तो वो ईमानदार है और ना हीं
हो रहा न्याय अन्याय से उसका कोई मतलब है
वो अपने मालिक के जंजीर में बंधा
आज़द देश का एक गुलाम है!
याद रखना मौन सिर्फ एक मजबूरी है
यह न्याय अन्याय के बीच हो रहे जंग में
नही कभी किसी को भी रहा जरूरी है!
कर ना सको यकीन मेरे बातों पर
तो अपने इतिहासों को उल्टाओ
रामायण और महाभारत के चरितार्थ को दोहराओ!
मौन
Prince Kumar Jha
#thoughtoftheday

168 

Share


Prince kumar Jha
Written by
Prince kumar Jha

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad