BluepadMann ki baat
Bluepad

Mann ki baat

A
Anmol
15th Jun, 2020

Share

दिल की बात उतारी है कागज पर पहली बार

आज कुछ फुर्सत के पल मिले तो सोचा क्यों ना कुछ वक्त अपने साथ बिताया जाए वरना रोजमर्रा के कामों से किसे फुर्सत है, पर आज कुछ पल ही निकाल ही लिए अपने लिए........

ठंडी गहरी सांस लेकर पहले अपने को भरोसा/ यकीन दिलाया कि आज वक्त है तेरे पास जी ले अपनी जिंदगी कुछ देर अपने साथ, सोचते-सोचते पता नहीं कहां निकल गई कि वक्त कितनी जल्दी निकल जाता है, एक वक्त था कि अपने लिए वक्त ही वक्त होता था आज सोचने बैठी तो मुझे अपने अंदर के कलाकार ने जगाया कि क्या हो गया है तुम्हें कहां गई तुम्हारी अंदर की प्रतिभा सोचो अपने बारे में अपने अंदर के प्रतिभाशाली इंसान को उस इंसान को जो बहुत कुछ करना चाहता था पर क्या हुआ जो कर नहीं पाया, फिर सोचा करना तो बहुत कुछ चाहती हूं पर हिम्मत नहीं हो पाई आज तक झिझक है जो कभी खत्म ही नहीं हो पाई मैं जानती हूं कि एक बार पानी में जाने की देर है खुद से तैरना सीख जाऊंगी पर पता नहीं क्यों वह पहला कदम ही नहीं उठा पा रही हूं बहुत बेचैन हो जाती हूं उड़ना चाहती हूं, गुनगुनाना चाहती हूं, तैरना चाहती हूं, हवा से बातें करना चाहती हूं पर वह हिम्मत कहां से लाऊं .....

आज पहली बार मैंने अपने दिल की बात कागज पर उतारी है, कवित्री नहीं हूं और ना ही लेखिका जो मन में आया लिख डाला यह बहुत औरतों के साथ होता होगा आपके साथ भी हुआ हो तो कृपया करके आप मुझे बताएं कि कैसे मैं अपना पहला कदम उठा सकती हूं शायद आपके पास मेरे इस प्रश्न का उत्तर हो कि कैसे मैं अपने आप को ढूंढ सकती हूं अपने अंदर........

5 

Share


A
Written by
Anmol

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad