Bluepad | Bluepad
Bluepad
परी
Nasir jamal
Nasir jamal
5th Aug, 2022

Share

अंधेरी रात थी
तारों की बारात थी
एक परी आई
वो एक छड़ी लाई
सुन्दर,लाल,सुनहरी
तभी उसने छड़ी घुमाई
सुनहरी किरण चमकी
मेरी आँखें ख़ुशी से दमकी
अरे भाई!
ये तो मेरी बेटी थी
कोई -परी से कम थी
मेरी आँखें ख़ुशी से छलक आई
बेटी परी से कम नही भाई
क्या मेरी बात समझ में आई
एक परी आई
देखो देखो आपके
घर भी प्यारी सी परी होगी
बेटी भी परी होती है
बेटों से भी खरी होती है
सच कहता हूँ,प्यार और सम्मान दो उसे
ये वो परी होती है जो
घर में खुशहाली लाती हैं
सब की खिदमत कर के
घर को जन्नत बनाती हैं
बेटी भी परी होती है
बेटों से भी खरी होती है ।।
NJ Writes...
परी

177 

Share


Nasir jamal
Written by
Nasir jamal

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad