Bluepad | Bluepad
Bluepad
ख़ता
कपिल रेगे
कपिल रेगे
22nd Jun, 2022

Share

ख़ता मेरी थी इतनी
के में ख़ुद को समझने के बजाय
ज़माने को समझने में उलझकर रह गया।
ख़ता मेरी थी इतनी
के में ख़ुद को होंसला देने के बजाय
औरों को होंसला देने में उलझकर रह गया।
ख़ता मेरी थी इतनी
के में ख़ुद को आगे बढ़ाने के बजाय
औरों को साथ लेकर बढ़ता गया,अपना समझकर।
ख़ता की है उन्होंने,जो समझ न सके मुझको
और चल पड़े पीठपर हमारे खंजर का वार कर के आगे
बस वो गलती कर गये उलझ गए हम से।
कवि/शायर -क.दि.रेगे

178 

Share


कपिल रेगे
Written by
कपिल रेगे

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad