Bluepad नकाब क्यों.......
Bluepad

नकाब क्यों.......

Bhawna Nagaria
Bhawna Nagaria
8th Jun, 2020

Share

इस बेगाने...अनजाने संसार मे ऐसा क्या राज समाया है,
जिसकी खातिर हर इंसान ने,चेहरे पर नकाब चढाया है,
जैसा पहना जिसने नकाब, वैसा इस संसार को पाया है,
पाया किसी ने स्वर्ग से सुंदर, तो किसी ने बद से बदतर पाया है ।

क्यूँ है हर इंसान को ,इस नकाब की ख्बाहिश ,
क्यूँ निभाने है दो दो किरदार.....?
क्या हकीकत का सामना करने ,
नहीं हैं आप और हम तैयार ।
ये नकाब एक छलावा है ,
फिर क्यों हर एक ने अपनाया है....?
जब से इंसान ने चेहरे पर नकाब चढाया है,
तब से हर सच्चाई पर पहरा पाया है ,
हर इंसान कठपुतली नजर आता है ,
खुद ही खुद से ,और अपनों से छला जाता है ।

बेनकाब होने का यहाँ, हर इक को डर सताता है,
शायद तभी हर रिश्ते मे, आज बनाबटीपन नजर आता है,
पर इस किरदार को ही, अब हर एक को यहाँ निभाना है,
मन मे हो चाहे बैर अपार ,फिर भी शुभचिंतक बताना है,
सच्चाई कहने की गुस्ताखी, अब कहाँ कोई कर पाता है ,
सच तो यह है कि सच्चाई का सामना ,अब ना कोई कर पाता है ।

कुछ कहना ....अब अनकहा ही रह जाता है,
लफ्ज़ ....खामोश हो जाते हैं,
जज्बातों से ना अब कोई किसी का नाता है,
अब हर रिश्ता....सहमा सहमा नजर आता है,
आलम ये है कि,अपनों मे भी अब गैर नजर आता है ।

शायद.....चलना ही होगा हर इक को नकाब के साथ,
सच्चाई की राह नहीं है आसान ,
हकीकत बेहद कठोर होती है ,
इंसान को ना ही वो मंजूर होती है ,
निभाना ही होगा अब दोहरा किरदार ,
तभी होगा इस जिंदगी का सफर.....आसान ।

8 

Share


Bhawna Nagaria
Written by
Bhawna Nagaria

Comments

SignIn to post a comment

Recommended blogs for you

Bluepad